()

Updated on ஜூன் 9, 2020

कार्य स्थल में मृत्यु और दुःख कासामना कैसे करें

 यह असामान्य नहीं है कि हम में से कई लोग  अपने घर की तुलना में अपने कार्यस्थल पर जीवन का अधिकांश समय बिताते हैं ।हम में से कुछ अपने सहयोगियों के साथ काम के बाहर एक साथ इतना समय बिताने के बाद घनिष्ठ संबंध बना लेते हैं ।अतः कार्यस्थल पर किसी सहयोगी की क्षति (चाहे दुर्घटना या बीमारी से), सहकर्मियों पर एक गंभीर  मानसिक प्रभाव कर सकती है। यह दर्दनाक घटना कई मायनों में कार्यस्थल को प्रभावित कर सकती है।

दुख होना इस तरह के अचानक और भीषण नुकसान के लिए एक सार्वभौमिक, प्राकृतिक और सामान्य प्रतिक्रिया है। हमारी शोक प्रक्रिया आमतौर पर व्यक्ति के साथ हमारे संबंधों की निकटता पर निर्भर करती है। किसी भी प्रकार के दुःख से निपटने और ठीक होने में हमारी मदद करने के लिए हमें दुःख को महसूस करने की प्रक्रिया को समझना महत्वपूर्ण है।

दुख के चरण ( एलिज़ाबेथ कुबलेर- रौस का नमूना )

दु: ख  के 5 चरण हैं। यदि आप किसी हानि के बाद इन भावनाओं में से किसी का भी अनुभव कर रहे हैं, तो यह महसूस करना महत्वपूर्ण है कि यह स्वाभाविक है और यह सामान्य रूप से आपके मन के घावों  को भरने की प्रक्रिया का हिस्सा है। इन सभी चरणों से गुजरना ज़रूरी नहीं है और नीचे वर्णित अनुक्रमिक क्रम में आवश्यक नहीं है। आप इन विभिन्न चरणों को आगे या पीछे  भी अनुभव कर सकते हैं।

याद रखें कि उपचार धीरे –धीरे होता है और इसे जबर्दस्ती और जल्दी नहीं करना चाहिए। यह कहने के लिए कोई विशिष्ट समय-सीमा नहीं है कि आप कब  बेहतर महसूस करेंगे, क्योंकि हम सभी को दुःख का अनुभव अलग-अलग हो सकता है ।

. अस्वीकार्य :  यह सामान्य प्रतिक्रिया है जो हमें अभिभूत होने (स्तब्ध हो जाने या अविश्वास में होने) से बचाताहै। यह प्रकृति के दर्द को केवल उतना ही सहने का तरीका है जितना हम संभाल सकते हैं।

२. क्रोध : जैसे-जैसे संवेदन शून्यता कम होने लगती है, क्षति से हुआ दर्द मजबूत होना शुरू हो जाता है। यह नुकसान की समझ बनाने में एक अस्थायी संरचना प्रदान करने में  मदद करता है।

. तौल मोल करना : “अगर” “मगर” या‘ “यदि मैं कुछ कर पाता तो” दुःख का एक चरण है जो कि एक अस्थायी समझौते  का रूप ले सकता है। यह समझौता  अक्सर अपराध बोध की कुछ भावनाओं के साथ होता है।

४. अवसाद :  अवसाद  उदासी की एक तीव्र भावना है जो अचानक हुई क्षति की एक सामान्य प्रतिक्रिया है। यह नैदानिक ​​अवसाद से अलग है।

५. स्वीकृति : हम अब भी आहत महसूस तो करते हैं लेकिन उस हद तक नहीं  क्योंकि हम इस  वास्तविकता को स्वीकार करना शुरू करते हैं कि मृतक शारीरिक रूप से हमारे साथ नहीं है। हम यह पहचानना शुरू करते हैं कि यह नई स्थायी वास्तविकता है और हम जीवन में आगे बढ़ने लगते है।

दु: ख के 5 चरणों पर क्लिक करें और देखें

घर पर नुकसान का सामना कैसे करें—

शोक प्रक्रिया के दौरान, आप विभिन्न प्रकार की तीव्र भावनाओं का अनुभव कर सकते हैं – ठीक एक रोलर कोस्टर की सवारी की तरह, जो आपको कमजोर कर सकती है। इसलिए, यह बहुत ही महत्वपूर्ण है कि हम अपना ख्याल रखें।

१. अपनी स्वयं की शारीरिक जरूरतों का ख्याल रखें

• भरपूर आराम करें और सोएं

• स्वस्थ भोजन करें

• रोज़ कसरत करें

• दवाओं या शराब से बचें

२. अपने आपको रचनात्मक तरीकों से  व्यक्त करें

• अपने विचारों या भावनाओं को किसी कॉपी में लिख लें

• अपनी भावनाओं को कला के माध्यम से व्यक्त करें (चित्रकला या पेंटिंग  द्वारा)

• मृतक को पत्र लिखें

• व्यक्ति की जीवन यात्रा को बताने  के लिए एक स्क्रैप बुक या अल्बम बनाएं

३. समर्थन खोजें

• दुख को कम करने के लिए अपने दोस्तों और परिवार से बात करें

• एक चिकित्सक या परामर्शदाता से बात करें जब आपकी भावनाएं तीव्र या गंभीर हों।

कार्य स्थल के भीतर कैसे सामना करें —

• स्वीकर करें कि आपके सहकर्मियों के पास हानि  की प्रतिक्रिया देने के विभिन्न तरीके हैं। कुछ अपनी भावनाओं के बारे में बात करना चाह सकते हैं, जबकि अन्य अपने दम पर उनसे निपटना चाहेंगे। इसलिए, मुकाबला करने के अनेक तरीकों का सम्मान करें।

• मृतक  के बारे में बात करने के लिए या मृतक के जीवन का जश्न मनाने के लिए किसी को या पारस्परिक दोस्तों के समूह को खोजें

• मृतक के अंतिम संस्कार में शामिल होने से क्षति को स्वीकार करने में मदद मिलती है। आप एक पेड़ लगाकर या अपने सहयोगियों के साथ एक स्मृति बोर्ड बनाकर काम पर एक स्मारक स्थापित कर सकते हैं।

याद रखें कि आपका दुःख आपका अपना है। गुस्सा होना या दुखी होना सामान्य है । अगर आप रोना चाहते हैं तो रो लें।  आप हंसना भी चाह सकते हैं ताकि खुशी के पल मिलें तो ज़रूर मुस्कुराएं और हंसें। आपको शर्मिंदगी या लोगों  की राय से डरने की आवश्यकता नहीं है । जो कुछ भी आप महसूस करते हैं, उसे स्वयं  महसूस करें।जैसे-जैसे समय बीतता जाएगा, इन भावनाओं का दर्द कम होता जाएगा, क्योंकि आप क्षति को स्वीकार करने लगते हैं और आगे बढ़ना शुरू कर देते हैं।

हालाँकि, यदि आप स्वयं को बेहतर महसूस नहीं करते हैं और क्षति की पीड़ा इतनी निरंतर और गंभीर है कि यह आपके दैनिक जीवन पर प्रभाव डालती है, तो मदद के लिए किसी मनोवैज्ञानिक  से संपर्क ज़रूर करें!

டெலிமீ சமூகத்திற்கு சுகாதார வசதிக்கான வசதியான மற்றும் திறமையான ஆன்லைன் மற்றும் ஆஃப்லைன் அணுகலை வழங்குவதற்காக கட்டப்பட்டது.

உரிமைவிலக்கம். TELEME வலைப்பதிவு இடுகைகளில் சுகாதார நிலைமைகள் மற்றும் சிகிச்சைகள் பற்றிய பொதுவான தகவல்கள் உள்ளன. இது தொழில்முறை மருத்துவ ஆலோசனை, நோயறிதல் அல்லது சிகிச்சைக்கு மாற்றாக இருக்க விரும்பவில்லை. தகவல் அறிவுரை அல்ல, அதுபோன்று கருதப்படக்கூடாது.

நீங்கள் எந்தவொரு மருத்துவ நிலையிலும் பாதிக்கப்படலாம் என்று நீங்கள் நினைத்தால், உங்கள் மருத்துவர் அல்லது பிற தொழில்முறை சுகாதார வழங்குநர்களிடமிருந்து உடனடி மருத்துவ உதவியை நாட வேண்டும். இந்த வலைத்தளத்தின் தகவல் காரணமாக நீங்கள் ஒருபோதும் மருத்துவ ஆலோசனையைப் பெறுவதை தாமதப்படுத்தவோ, மருத்துவ ஆலோசனையைப் புறக்கணிக்கவோ அல்லது மருத்துவ சிகிச்சையை நிறுத்தவோ கூடாது.

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating / 5. Vote count:

No votes so far! Be the first to rate this post.

As you found this post useful...

Share it on social media!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?